home Food Benefit Cinnamon in Hindi|11 प्रभावकारी दालचीनी के स्वास्थ्य लाभ |

Cinnamon in Hindi|11 प्रभावकारी दालचीनी के स्वास्थ्य लाभ |

Cinnamon in Hindi Meaning

दालचीनी cinnamon in hindi को किसी पहचान की जरुरत नहीं है | ये लगभग सभी भारतीयों की रसोई में मिलती है |और भारतीय ही क्यों ये तो पुरे विश्व में पाई जाती है |

ये एक अत्यधिक स्वादिष्ट मसाला है। इसको सब्जियों में बहुत अधिक प्रयोग किया जाता है , इसके अलावा इसका उपयोग औषधि में भी किया जाता है |यह हजारों वर्षों से इसके औषधीय गुणों के लिए एक बेशकीमती मसाला है। रोमन साम्राज्य के समय तक, यह चांदी की तुलना में 15 गुना अधिक महंगा था। Cinnamon in Hindi

दालचीनी स्वाद में हल्की तीखी होने के साथ हल्की मीठी भी होती है| इसलिए सब्जियों में मिलाने पर सब्जी का स्वाद काफी संतुलित आता है |असल में ये पोधा Lauraceae फैमिली से सम्बंधित है,

जो Sri Lanka में पाया जाता है। दालचीनी मूलतः पेड़ की छाल होती है , लेकिन इसके अलावा इस पेड़ की पत्तिया, और बीज का भी उपयोग किया जाता है |Cinnamon in Hindi

यहां इस लेख में आपको Top 10 benefits of using Cinnamon दालचीनी के 10 स्वास्थ्य लाभ बताने जा रहा हु , तो दोस्तों बने रहिये हमारे आर्टिकल के साथ |

1.दालचीनी में शक्तिशाली योगिक है और औषधीय गुणों से भरपूर है|cinnamon in hindi meaning

दालचीनी एक स्वादिष्ट मसाला है |इसे  वैज्ञानिक भी दालचीनी के रूप में जानते है ,और ये असल में दालचीनी के पेड़ की आंतरिक छाल है |इतिहास में एक इसे एक महत्वपूर्ण घटक के रूप में इस्तेमाल किया गया है |

पुराने समय में ये बहुत दुर्लभ और मूल्यवान हुआ करती थी | ​​प्राचीन मिस्र की बात है इसे राजा को एक तोहफे के रूप में दिया जाता था |

इससे आप इसकी value का अंदाजा लगा सकते है | मगर आज के दिनों में ,दालचीनी काफी सस्ती है, क्युकी उपलब्धता सब जगह हो गयी, और अब उत्पादन भी बढ़ गयी है, अब ये हर सुपरमार्केट में उपलब्ध है और अभी विभिन्न खाद्य पदार्थों और व्यंजनों में एक मसाले के रूप उपयोग किया जाता है |

दालचीनी के दो मुख्य प्रकार हैं |cinnamon hindi meaning

सीलोन दालचीनी: इसे असल (genuine) दालचीनी के रूप में भी जाना जाता है।

कैसिया दालचीनी: ये आजकल इस्तेमाल होने वाली दालचीनी है, सभी लोग इसी रूप को जानते है |क्युकी ये बहुत common है |

दालचीनी निकलने के लिए इसके पेड़ के तनों को काटकर दालचीनी निकली जाती है , साथ में निकलने वाली लकड़ी के हिस्सों को हटा दिया जाता है, और भीतरी छाल को निकाला जाता है इस तरह हमें दालचीनी Cinnamon in Hindiप्राप्त होती है |

दालचीनी की विशिष्ट गंध और विशिष्ट स्वाद इसमे मौजूद तेल के कारण होता है, इस तेल में cinnamaldehyde यौगिक की अधिकता होती है |

अध्यनो से पता चला है की ये योगिक आपके overall health और आपके metabolism के लिए सबसे अच्छा है | तो अगर आप अभी तक दालचीनी का इस्तेमाल नहीं करते तो आज से चालू करदे ,लेकिन एक सिमित मात्र में |

2.दालचीनी एंटीऑक्सिडेंट के साथ भरी हुई है Cinnamon in Hindi

एंटीऑक्सिडेंट का मुख्य काम आपके शरीर को free redical से होने वाले नुकसान से बचाना है |इसमे मौजूद पॉलीफेनोल इसके गुणों को और बढ़ा देता है , ये एक शक्तिशाली योगिक है जो दालचीनी को natural food preservative बनाता है| एक अध्ययन में 26 मसालों की एंटीऑक्सीडेंट की तुलना की गयी, इसमे दालचीनी को स्पष्ट विजेता रही है , यहाँ तक की ये  लहसुन और अजवायन के समान antioxidant गुण होते है |

3.दालचीनी में Anti-Inflammatory गुण होते हैं|Cinnamon in Hindi

सूजन हमारे शरीर के लिए अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण है। क्योकि ये हमारे शरीर को संक्रमन से लड़के के साथ हमारे tissue के damage या kharab होने से बचाता है |सामान्य का कम सुजन तक तो ठीक है लेकिन अगर यही सुजन chronic हो जाती है तब समस्या उत्पन हो जाती है |लेकिन अगर आप दालचीनी का इस्तेमाल करते है तब आपको ये समस्या नहीं हो सकती ,क्युकी दालचीनी में ऐसे कुछ योगिक होते है , जो आपके शरीर में उपस्थित हानिकारक bacteria से लड़ते है ,और उन्हें ख़त्म कर देते है |

4.दालचीनी से हृदय रोग का खतरा कम हो जाता है |

दुनिया में सबसे ज्यादा मौत का कारन heart attack या heart का अन्य रोग होता है | इसका कारन है की heart हमारे body का सबसे महत्वपूर्ण  अंग है , क्युकी ये हमारे शरीर में प्राणवायु को पूरी body में पहुचता है |इसलिए इसमे थोड़ी सी खराबी सीधा मौत का कारन बनती है |और आजकल की lifestyle में heart problem होना कोई बड़ी बात नहीं |दालचीनी इसमे बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है |जिन लोगो को type-2 मधुमेह है उनको प्रति दिन 1 ग्राम या लगभग आधा चम्मच दालचीनी उपयोग करे , ये आपके blood sugar को नियमित करती है |इसका बहुत लाभकारी प्रभाव है |

हाल ही में, एक अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला है कि प्रति दिन सिर्फ 120 मिलीग्राम की एक दालचीनी खुराक आपके कुल कोलेस्ट्रॉल में से  “खराब” एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम करता है, जबकि “अच्छा” एचडीएल कोलेस्ट्रॉल स्थिर रहता है |इसके अलावा दालचीनी आपके “अच्छा” एचडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढाता है| तो अगर आपका cholesterol सही रहेगा तो हार्ट अटैक का खतरा बहुत कम हो जाता है |

5.दालचीनी आपके इन्सुलिन की मात्रा को नियमित करती है | how to take cinnamon in diabetes

cinnamon in hindi
cinnamon in hindi

इंसुलिन एक हमारे शरीर का  प्रमुख हार्मोन है जो आपके metabolism और आपके शरीर में उर्जा को प्रदान करती है | इन्सुलिन आपके शरीर में blood के द्वारा  blood sugar को सभी कोशिकाओ तक पहुचाने का काम करती है | इन्सुलिन में कोई भी खराबी आपके शरीर के blood sugar को कोशिकाओ तक पहुचाने से रोकता है| इससे आपको diabetes का खतरा बढ़ जाता है | क्युकी आपके शरीर का blood sugar की खपत ठीक तरह से नहीं हो पाती ,जिससे ये blood sugar बढ़ जाती है |

दालचीनी को इन्सुलिन का प्रतिरोधी माना जाता है | इसके अलावा ये आपके metabolic syndrome और type 2 diabetes जैसी गंभीर बीमारियों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है | दालचीनी आपके इन्सुलिन की गतिशीलता को बढ़ा देती है , जिससे इन्सुलिन अपना काम ठीक से कर पाती है |

6.दालचीनी रक्त शर्करा को कम करती है इसमे शक्तिशाली Anti-Diabetic गुण होते है |cinnamon in diabetes

दालचीनी को एक शक्तिशाली anti-Diabetic माना जाता है ,क्युकी इसमे पाए जाने वाले योगिक के गुणों के कारन ये आपके आपके रक्त-शर्करा के स्तर को कम करती है |जैसे की पहले मैंने आपको बताया की दालचीनी एक इन्सुलिन प्रतिरोधी है इसलिए ये आपके blood sugar level को कम करती है |

खाने के बाद सबसे पहले आपके शरीर के blood में glucose प्रवेश करता है , दालचीनी इसी glucose को नियंत्रित करता है | ऐसा ये आपके कई पाचन एंजाइमों के साथ reaction करके आपके digestive track में होने वाली क्रिया जिससे कार्बोहाइड्रेट को तोडा जाता है , इसे ये धीमा कर देती है |

इसके अलावा दालचीनीCinnamon in Hindi में योगिक होता है जो same इन्सुलिन की तरह ही कार्य करता है |जिससे ये आपके glucose, लेवल को maintain रखता है , हालाँकि ये पूरा इन्सुलिन जितना तो काम  नहीं कर सकता लेकिन हा काफी हद तक इसके जैसे ही कम करता है , और आपको काफी राहत देता है |

कई मानव अध्ययनों ने दालचीनी के मधुमेह-विरोधी प्रभावों की पुष्टि की है, यह दिखाते हुए उन्होंने ये कहा कि यह तेजी से रक्त शर्करा के स्तर को 1029% तक कम कर सकता है|दालचीनी की प्रभावी खुराक आमतौर पर 1-6 ग्राम या प्रति दिन दालचीनी के 0.5-2 चम्मच के आसपास है।

7.Parkinson रोग में लाभदायक name of cinnamon in hindi

दालचीनी में पाए जाने वाले दो यौगिक मस्तिष्क में ताऊ नामक एक प्रोटीन के निर्माण को रोकते हैं, जो अल्जाइमर रोग होने का प्रमुख कारण है |

पार्किंसंस रोग के साथ चूहों में एक अध्ययन में, दालचीनी आपके neurons की रक्षा करता है , इसके अलावा ये न्यूरोट्रांसमीटर स्तरों और आपके शरीर मोटर फ़ंक्शन की रक्षा करने में मदद की।

8.दालचीनी कैंसर से बचाव करती है |cinnamon for cancer treatment

कैंसर एक गंभीर बीमारी है, इस बीमारी का मुख्य कारण आपके शरीर की कोशिकाओ की अनियंत्रित वृद्धि है | जैसा की आपको सबको पता है की हमारा शरीर कोशिकाओ से मिलकर बना होता है , और रोजाना करोड़ो कोशिकाए बनती और ख़तम होती है , white ब्लड cells जो ख़राब कोशिकाओ को पहचान कर मार देती है , इसमे कुछ भी खराबी cancer का कारण बनती है |

दालचीनी का व्यापक रूप से अध्ययन किया गया जिसमे पाया गया की ये कैंसर की रोकथाम और उपचार के लिए लाभकारी औषधि है | कुल मिलाकर, सबूत टेस्ट-ट्यूब और जानवरों के अध्ययन तक सीमित है क्युकी अभी तक ये मानव पे नहीं किया गया है ,इसमे बताया गया है की दालचीनी का अर्क कैंसर से बचाव कर सकता हैं|

यह कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि और आपकी रक्त वाहिकाओं में  tumor बनने से रोकती है और ये कैंसर कोशिकाओं के लिए जहर का काम करती है ,जिससे आपकी ख़राब कोशिकाए नष्ट हो जाती है। चूहों में colon cancer के एक अध्ययन से पता चला है |

दालचीनी आपकी बॉडी में colon cancer की कोशिकाओं में सुरक्षात्मक एंटीऑक्सिडेंट प्रतिक्रियाओं को सक्रिय करती है। colon cancer के साथ कि दालचीनी आपके colon में एंजाइमों को डिटॉक्स करने का एक शक्तिशाली उत्प्रेरक है, जो आगे के कैंसर होने के विकास से बचाता है।

9.दालचीनी ख़राब बैक्टीरिया और फंगल infection से लडती है |

Cinnamaldehyde, जो दालचीनी के मुख्य योगिको में से एक है , यही योगिक आपके विभिन्न प्रकार के संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकता है। दालचीनी का तेल आपके respiratory tract( श्वसन पथ) में होने वाले संक्रमण के लिए प्रभावी है। यह कुछ बैक्टीरिया के विकास को भी रोक सकता है, जिसमें लिस्टेरिया और साल्मोनेला शामिल हैं। दालचीनी के रोगाणुरोधी प्रभाव आपके dental problem को रोकता है , जैसे  bad breath, bloody gums आदि|

10.दालचीनी भयानक एचआईवी वायरस से लड़ने में मदद करती है| Cinnamon in Hindi

एचआईवी एक खतरनाक वायरस है जो धीरे-धीरे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) को कमजोर बना देता है, जो अंततः एड्स का कारण बन सकता है, अगर आप सही समय पर इसका इलाज नहीं करते है तो आपको गंभीर परिणाम भुगतने पड़ते है , और अंततः परिणाम मौत है |Cinnamon in Hindi

दालचीनी जो कैसिया किस्मों से निकाली गई है वो आपके एचआईवी -1 वायरस से लड़ता है , और एड्स में फायदा पहुचता है| एचआईवी संक्रमित कोशिकाओं को एक प्रयोगशाला के अध्ययन में 69 पे अध्ययन मे पाया गया कि किए गए सभी औषधीय पौधों में दालचीनी सबसे प्रभावी औषधि थी |

11.दालचीनी आपकी आँखों के लिए बेहतर है |Cinnamon in Hindi

कुछ अध्ययनों से पता चला है कि दालचीनी, कुछ अन्य जड़ी बूटियों के साथ मिलाकर नेत्र विकार की बीमारियों में उपयोग की जाती है, जैसे  conjunctivitis और सूखी आंख ,लेकिन इसमे अभी और शोध करने की आवश्यकता है ,क्युकी इसमे सबकी अभी अलग अलग राय है | इसके उपयोग के लिए आपको इसे पानी लेकर उसमे थोड़ी दालचीनी डालकर ,उसको उबालकर पीना चाहिए |

दालचीनी के कुछ side effect Cinnamon in Hindi

हालाँकि आयुर्वेद की औषधि side effect नहीं करती है , लेकिन किसी भी वास्तु का लेना का एक सीमा होती है , अगर ज्यादा हो तो नुकसान हो होगा ही है |

कैसिया किस्म की दालचीनी में कौमारिन नामक यौगिक की महत्वपूर्ण मात्रा होती है, जिसे बड़ी खुराक में लेना हानिकारक माना जाता है।

सभी दालचीनी के स्वास्थ्य लाभ होते है , लेकिन कैसिया किस्म की दालचीनी जो कौमारिन सामग्री की अधिकता के साथ है वो आपके लिए समस्या पैदा कर सकती है | Cinnamon in Hindi

सीलोन दालचीनी (“सच” दालचीनी) इस संबंध में बहुत बेहतर है, और अध्ययन से पता चलता है कि यह कैसिया किस्म की तुलना में Coumarin में बहुत कम होती है | लेकिन दुर्भाग्य से, सुपरमार्केट और दुकान में पाए जाने वाली अधिकांश दालचीनी सस्ती कैसिया किस्म है।

दालचीनी को कैसे इस्तेमाल करे |

1. pimple को हटाये |Cinnamon in Hindi

दालचीनी को चेहरे के लिए बहुत अद्भुत माना जाता है | जवानी में चेहरे पे होने वाले pimple को खत्म करने के लिए दालचीनी का उपयोग किया जाता है |और ये इसमे बहुत अच्छा काम करती है | इसके लिए आपको चाहिए –

  • दालचीनी 1/2 चमच
  • शहद 2 चमच

दालचीनी को आप पिस ले , पाउडर बनने के बाद आप इसमे शहद मिला ले |इसका पेस्ट बन जाने के बाद आप अपने pimple वाली जगह पे लगाये और , 20 min तक रहने दे | इसके बाद चेहरे को धो ले | आप इसे एक हफ्ते तक इस्तेमाल करे ,आपको चेहरे में आश्चर्जनक बदलाव देखने को मिलेगा |

2. वजन कम करे |Cinnamon in Hindi

इसके लिए आपको दालचीनी का पाउडर , शहद , और गुनगुना पानी |

इसको बनाने के लिए दालचीनी और शहद को mix करे , और साथ में थोडा गुनगुना पानी डाले, धयान रहे पानी ज्यादा गर्म नहीं होना चाहिए नहीं तो इसके प्रभाव कम हो जाते है |

इस drink को आप रात को सोने से पहले पिए , ये आपके शरीर के metabolism को बढ़ा देता है |जिससे आपका खाना fat नहीं बनेगा ,और आपका मोटापा कम हो जायेगा |

इसके अलावा दालचीनी की चाय बना के पी सकते है | एक बर्तन में 500ltr पानी डालकर उसको गैस पे रखकर पानी को गर्म करे ,इसके साथ ही दालचीनी की 2 डंडी  डाल दे | पानी जब आधा रह जाये तो पानी को उतारकर , छानकर उसकी चाय को पिए |

दालचीनी को आप दूध के साथ मिलाकर भी पी सकते है. अगर आपका पाचन ठीक नहीं रहता और आपको सिरदर्द की समस्या अक्सर रहती है तो आपको रोज रात को सोते समय, एक गिलास दूध के साथ 1/4 चम्मच दालचीनी डालकर उसको पी लेना है| याद रखे दूध थोड़ा हल्का गर्म होगा तो और भी अच्छा रहेगा | ये नुस्खा आपके पाचन के साथ आपके चेहरे पे भी निखार लाता है | इससे आपकी आँखों की रौशनी बढ़ेगी इसलिए नियम बना लीजिये की दूध के साथ दालचीनी आपको लेना ही है |

एक बात और आपको batana चाहूंगा की दालचीनी की तासीर थोड़ी गर्म होती है, इसलिए अगर आपकी body मैं अगर पहले से ही पित्त बढ़ा हुआ है तो आप इसे ना ले |

तो अभी आपको पता चल गया होगा की आप दालचीनी को किस प्रकार से इस्तेमाल कर सकते है |चाय , face pack, इसके अलावा आप अपने खाने में मसाले के रूप में उपयोग कर सकते है | तो दालचीनी खाए और रोग भगाए |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *